कोरोना : इतनी दर्दनाक मौत कि मौत को भी रोना आ जाए

आनंद प्रकाश द्वारा लिखित कोरोना वायरस और हम : बड़ी असहज स्थिति है। एक टीस,खलिश, चुभन और दर्द का ऐसा अहसास, जो मन को बेबसीऔर निराशा की गहरी परतों में … Read More

विदेशी अखबार देसी पत्रकार और सफ़ेद झूठ

ताजा मिसाल एक बड़े नामवर पत्रकार राहुल सिंह की है, जिन्होंने एक लेख में लिखा है कि अपने हिंदुत्व व हिंदू राष्ट्र के एजेंडे को, जिसमें मुसलमान दूसरे दर्जे के नागरिक होंगे

क्षत विक्षत आत्माएँ-जीवित भी,मृत भी

आनंद प्रकाश द्वारा लिखित यौन दरिंदे, हैवानियत, जली अधजली लाशें और क्षत विक्षत आत्माएँ-जीवित भी, मृत भी….यौन  पीड़िता कर रहीं  पल पल  यही  गुहार।जैसे भी हो  तुरत हीदेयो  दरिन्दे मार।। पर … Read More

नफरत फैलाते पत्रकारों पर कार्यवाही कब ?

आनंद प्रकाश द्वारा लिखित कई बार मोदी सरकर पर बहुत  गुस्सा आता है और कई  बार उसकी बेबसी पर तरस भी। उसके दूतावास और हाई कमीशन उस  गंदगी को क्यों नहीं … Read More

पराली : समाधान तो हैं नीयत नहीं

आनंद प्रकाश द्वारा लिखित दावानल सी पराली, गैस चैंबर मैं परिवर्तित दिल्ली, बेचैन किसान, संवेदनहीन सरकारँ और दम घुट घुट कर मरते लोग…. लोगों की ये दुर्दशाकुरसी है चुपचाप।सुनता कोई … Read More