कोविद -19: केंद्र ने 15 राज्यों की सहायता के लिए उच्च-स्तरीय टीमों को तैनात किया.

प्रेरणा मेहरोत्रा द्वारा लिखित मीता कपूर की जानकारी पर आधारित।

नई दिल्ली: कोविद -19 बढ़ते मामलों के बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने मामलो को नियंत्रित करने के लिए मंगलवार को 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 50 नगर निकायों में तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए और प्रकोप के प्रबंधन को सुविधाजनक बनाने के लिए,उच्च-स्तरीय केंद्रीय टीमों को तैनात किया है।

निन्म लिखित राज्य और केंद्र शासित प्रदेश जो इस योजना में शामिल हैं
महाराष्ट्र (सात जिले / नगरपालिका), तेलंगाना (चार), तमिलनाडु (सात), राजस्थान (पांच), असम (छह), हरियाणा (चार), गुजरात (तीन), कर्नाटक (चार) उत्तराखंड (तीन), मध्य प्रदेश (पांच), पश्चिम बंगाल (तीन), दिल्ली (तीन), बिहार (चार), यूपी (चार), और ओडिशा (पांच)।

इनमें से प्रत्येक टीम में तीन सदस्य शामिल हैं – दो सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, महामारी विशेषज्ञ, चिकित्सक और प्रशासनिक संचालन और प्रशासन में सुधार के लिए एक वरिष्ठ संयुक्त सचिव स्तर के प्रधान अधिकारी।मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “ये दल क्षेत्र में काम कर रहे हैं और जिलों और शहरों के मामलों के रोकथाम के उपायों और कुशल उपचार और नैदानिक प्रबंधन के कार्यान्वयन में राज्य के स्वास्थ्य विभाग का समर्थन करने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं का दौरा कर रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को कोविद -19 के प्रबंधन पर मंत्रियों के समूह की 16 वीं बैठक की अध्यक्षता की और शारीरिक स्वच्छता बनाए रखने, हाथ की स्वच्छता का पालन करने और मास्क पहनने पर जोर दिया।

मंत्रालय ने कहा कि ये टीमें राज्य के अधिकारियों के सामने आने वाली चुनौतियों जैसे कि परीक्षणों में आने वाली अड़चने, प्रति मिलियन जनसंख्या पर किया कम परीक्षण, उच्च पुष्टि दर, अगले दो महीनों में संभावित बेड की कमी, बढ़ते मामलों की घातक दर, उच्च दोहरीकरण दर जैसी चुनौतियों का सामना करेंगी।

मंत्रालय ने कहा, “बेहतर ताल मेल सुनिश्चित करने के लिए, समय पर कार्रवाई, एक अच्छी बारीक रणनीति अपनाना, यह प्रस्तावित है कि इन जिलों / नगर पालिकाओं को नियमित रूप से केंद्रीय टीमों के संपर्क में रहना चाहिए जो पहले से ही राज्यों के साथ ताल मेल बना रहे है।

कई जिलों और नगरपालिकाओं ने पहले से ही जिला स्तर पर एक समर्पित कोर टीम को औपचारिक रूप दिया था, जिसमें केंद्रीय स्तर के साथ नियमित आधार पर समन्वय करने के लिए जिला-स्तरीय चिकित्सा और प्रशासनिक अधिकारी शामिल है।

अंत में हम बस यही कहना चाहेंगे कि जैसे केन्द्र और राज्य के प्रशिक्षित लोग ऐसे समय में लोगो की रक्षा हेतु आगे बढ़ कर आ रहे है आप भी घर पर रहकर और बाहर निकलने पर सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुये अपने कार्य करे क्योंकि इस महामारी से लड़ाई हम सब मिलकर ही जीत सकते है। इस वक़्त में एक दूसरे का सहयोग बहुत आवश्यक है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: