हिन्दू और मुस्लिम की एकता की मिसाल ….

प्रेरणा मेहरोत्रा द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित।

सुरत: शहर के लिंबायत इलाके में 30 लोगों के इस समूह का मकसद हमेशा ही खुशी बांटना रहा है, जिनमें से अधिकांश मुस्लिम हैं। ईद के अवसर पर, समूह के सदस्यों ने अपने घरों के लिए कोई उत्पाद या अपने लिए कोई भी नए कपड़े नहीं खरीदे, बल्कि 25 मार्च को कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार द्वारा लॉकडाउन की घोषणा के बाद से मुश्किल दौर से गुजरने वाले गरीब लोगों के लिए मिठाई तैयार करने के लिए इनके द्वारा उठाए गए नेक कदम में रु1.50 लाख का उपयोग गरीबों की मदद के लिए किया गया था।

उधना यार्ड के रहमानिया समूह में 25 मुस्लिम सदस्य हैं जबकि अन्य हिंदू हैं। सभी ने रमजान के पवित्र महीने में रोजा रखा और 23 मार्च से 1,000 से अधिक गरीब लोगों को खाना खिलाया। उनकी यह सेवा तब तक जारी रहेगी जब तक तालाबंदी ख़त्म नहीं हो जाती।

एक इलेक्ट्रीशियन इम्तियाज शेख ने कहा कि “हम आम तौर पर वितरण के लिए चावल के व्यंजन बनाते हैं। चूंकि यह ईद थी, इसलिए हमने ‘खीर’ तैयार की और इसे गरीब लोगों को रोटी, केला और अंडे के साथ वितरित किया। हमने पिछले दो महीनों से अपनी दिनचर्या के अनुसार भोजन के पैकेट वितरित किए।

जाकिर पठान, एक परिवहन ठेकेदार ने कहा कि “प्रत्येक सदस्य ने अपनी वित्तीय क्षमता के अनुसार योगदान दिया। हम में से किसी ने भी इस बार त्योहार के लिए नए कपड़े नहीं खरीदे। इस कठिन वक़्त में जब हम जैसे न जाने कितने लोग आर्थिक कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं तो हम नए कपड़े कैसे खरीद सकते हैं?

एक कपड़े की दुकान के कर्मचारी गौतम मेश्राम ने कहा, कि “हम संकट के समय में एक साथ थे और उत्सव में भी एक साथ ही हैं। एकता हमें सभी समस्याओं को दूर करने में मदद करती है।”

समूह दान में खाद्यान्न प्राप्त करता है, जबकि यह समूह दानकर्ताओं द्वारा दी गई नकदी से दैनिक सब्जियां और मसाले खरीदता है। मध्यम वर्ग से ताल्लुक रखने वाले समूह के सदस्यों को गरीबों की सेवा में उनके समर्पण की बदौलत नकदी में दान मिलता रहा है।

अंत में हम बस यही कहना चाहेंगे कि जहाँ एक तरफ कुछ जमातियों ने ऐसे वक़्त में देश के लोगो को संकट में डाल दिया जिसकी वजह से कुछ लोगो ने मुस्लिम समुदाय को गलत समझा, इस लेख के माध्यम से ये साबित हो गया कि कोई भी धर्म गलत करने को नहीं कहता यह तो हर एक व्यक्ति की अपनी अपनी समझ है जिसके हिसाब से वह जीता है। अल्लाह के इन भले बन्दों को हमारा कोटि कोटि नमन जिन्होने इस वक़्त ने एकता का ऐसा उदाहरण देकर लाखो का दिल जीता और बहुतों को सही समझ की प्रेरणा दी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s