कोरोना वायरस पर सद्गुरु के सुझाव.

प्रेरणा मेहरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित। 

ऐसे वक़्त में जब सारा संसार ही कोविद-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है.ऐसे में देखते है कि हमारे माननिये आध्यात्मिक गुरु श्री सद्गुरु जी का क्या कहना है और ऐसे वक़्त में हम इस महामारी से कैसे लड़ सकते है।

आध्यात्मिक गुरु श्री सद्गुरु जी ने कहा कि वायरस आपको मारना नहीं चाहता है। यह वायरस हमारे शरीर में रह रहा है क्योंकि हम इसके लिए एक अद्भुत निवास स्थान हैं।ऐसे वक़्त में कुछ मनुष्य दम तोड़ देते हैं, तो कई अपने अंदर रोग से लड़ने की क्षमता उत्पन कर लेते है। खुद को मजबूत करें। थोड़ी मेहनत खुदको मज़बूत बनाने में करे। तो आप अगली बार परीक्षा में असफल नहीं होंगे। हमारे पास मानव मन के रूप में सबसे बेहतर मशीन है। आइए हम इसका सदुपयोग करे। सद्गुरु ने कहा, यदि आप अपना मन बनाते हैं, तो आप इस कठिन समय को खुशी से गुजार सकते हैं।

सद्‌गुरु का कहना है कि कभी कभी ऐसे समय भी होते हैं जहां निष्क्रियता कार्रवाई की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।यह एक ऐसा समय है जब आप जितना कम काम करे आपके लिए उतना बेहतर रहेगा- उदाहरण के तौर पर खास करके काम के संदर्भ में, और विशेष रूप से यात्रा के संदर्भ में, क्योंकि,पहले भी हमने कई संक्रामक रोगों को देखा है। भारत मलेरिया, और हाल ही में डेंगू और चिकनगुनिया के संक्रमण से गुजरा है। इन तीनों संक्रामक रोगों के लिए, वाहक मच्छर हैं। इसलिए हमने हमेशा मच्छरों को भगाने के उपाय किए। लेकिन वर्तमान स्थिति में, हम वाहक हैं और इसलिए हम इसे आसानी से मार नहीं सकते है।

यह वापस बैठने का समय है, हमारे जीवन को देखें, प्रतिबिंबित करें, अपने मार्ग को निश्चित करें जो हम चाहते हैं कि हमारा जीवन बने, और सबसे बढ़कर, हमारे अस्तित्व की नाजुक प्रकृति का एहसास करें। अधिकांश मानव दिन-प्रतिदिन के आधार पर इसे नहीं समझते हैं। हमारा जीवन बहुत नाजुक है – एक सूक्ष्म वायरस हमें मार सकता है।

जिन प्रतिकूलताओं का हम सामना कर रहे हैं वे अदृश्य हैं। यही बात उन्हें इतना खतरनाक बना देती है। क्योंकि हम वाहक हैं, अगर यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में जा रहा है, तो हमें यह समझने की आवश्यकता है कि यदि कोई व्यक्ति बीच में गायब है, तो यह अगले व्यक्ति के पास नहीं जाएगा।जैसे, हम लोग आम तौर पर बड़े पैमाने पर यात्रा करते हैं, जिसमे सभी इनर इंजीनियरिंग ईशांगों (शिक्षकों) और स्वयं मैं भी शामिल हूँ, अक्सर कई लोग यात्रा के बारे में शिकायत करते थे अब उन्हें यहाँ होने का आनंद लेना चाहिए। अब आपको यह सीखना होगा कि बिना कुछ किए कैसे रहना चाहिए और सबसे बढ़कर, जिनके पास योग करने का समय नहीं था, अब वह समय है। यदि आप अपनी आँखें बंद करके और ध्यान  नहीं कर सकते थे क्योंकि आप व्यस्त थे, तो अब कीजिये। यह समय आपकी आंखें बंद करके  स्वयं को जानने का है जो पहले वक़्त न होने की वजह से आप नहीं कर पाये।

कोरोनावाइरस एहतियात-

  • जीवित रहने के लिए, आपको बस कुछ समय के लिए कुछ कार्रवाई में गायब रहना होगा और आपको अपनी यात्राओं पर रोक लगाना होगा।
  • आपकी दोस्ती, लोगों से आपकी निकटता, यह सब आपको कुछ समय के लिए भूलना चाहिए।
  • प्यार का पोषण आपके दिल में होना चाहिए; इसे कुछ समय के लिए व्यक्त करने की आवश्यकता नहीं है।
  • सुनिश्चित करें कि न तो आप और न ही आपके आसपास कोई भी वायरस का शिकार हो।
  • आपको ध्यान रखना होगा कि न तो खुद को और न ही किसी को खतरे में डालें।
  • यह खत्म होने तक आपको इस प्रतिबद्धता के साथ रहना चाहिए।
  • अगर आपको खांसी है, तो दूसरों से दूर रहें। यह भेदभाव नहीं है। यह सिर्फ एक समझदारी है।
  • जो समझदार हैं वे इन स्थितियों से बचे रहेंगे। जो संवेदनहीन हैं वे मृत होंगे।

इस महामारी के वक़्त में हम सब ही बहुत नाज़ुक दौर से गुज़र रहे है। यह जानते हुए कि हमारा जीवन कितना नाजुक और क्षणिक है – क्या हमने उस तरह के जीवन की योजना बनाई है? या आप अपनी खुद की बनावटी दुनिया में रह रहे हैं, यह सोचकर कि आप हमेशा के लिए यहाँ रहने वाले हैं?यदि आप अपने आप को खुद से प्रबुद्ध नहीं कर सके, तो कम से कम वायरस का उपयोग करें। यह आपको एहसास करा रहा है – ठीक उसी तरह, जैसे कोई छींक सकता है और आप मर जाएंगे। यह एक अच्छा सबक और एक अच्छा अनुस्मारक है। यह घबराहट का समय नहीं है, लेकिन हमें एहतियात बरतने की जरूरत है। आप में से हर एक को सहयोग करना चाहिए और उसका हिस्सा बनना चाहिए। यदि आप किसी की भी थोड़ी सी भी तबियत ठीक न देखे, तो सुनिश्चित करें कि उसकी जांच होजाये।

अंत में हम बस यही कहना चाहते है कि सद्गुरु द्वारा दिया गया उनका सुझाव हम सबकी ज़िन्दगी को एक सकारात्मक मोड़ दे सकता है अगर उनकी कही हुई बात पर हम सब अमल करे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: