आनंद प्रकाश शर्मा जी.

प्रेरणा मेहरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित।

एक कवि के लिए एक कवयित्री के भाव …

वो जो कविता की भावनाओं के ज़रिये,
एक सलीके से अपनी बात परोसते है।

साधारण से लेकर गंभीर मुद्दों पर भी,
वे खुदको, लिखने से नहीं रोकते है।

प्रशंसा हो, या लिखना हो किसीके खिलाफ,
हर मुद्दे को समझ कर देते, वो सही को इंसाफ।

कही क्रोध है, तो कही है ,इनके लेख में करुणा का भाव,
सही के पक्ष में बोले,न सोचे केवल, ये अपना ही लाभ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: