आंध्र प्रदेश में बढ़ी झाड़ू की मांग

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित।

विशाखापट्टनम: महामारी के दौरान स्वच्छता गतिविधियां तेज़ी से बढ़ गई है। उत्तर-तटीय आंध्र प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में उत्पादित झाड़ू की मांग में हैदराबाद, बेंगलुरु और चेन्नई जैसे शहरों में वृद्धि देखी गई है।

इस क्षेत्र में कोनसेमा और उदानम शामिल हैं जिसमें नारियल के बागान और जनजातीय क्षेत्र हैं जो झाड़ू का उत्पादन करते हैं। यहां के थोक व्यापारी सालाना 1,500 टन झाड़ू की आपूर्ति विभिन्न शहरों में करते हैं।

ममिडिकुडुरु मंडल के एक थोक नारियल झाड़ू आपूर्तिकर्ता के वीरबाबू ने कहा कि हालांकि आपूर्ति, , लॉकडाउन और परिवहन सेवाओं की अनुपस्थिति के मद्देनजर रोक दी गई थी।”अब, आवश्यक वस्तुओं के परिवहन की अनुमति और राष्ट्रव्यापी परमिट, और यहां तक कि APSRTC के डिपो गुड्स ट्रांसपोर्ट (डीजीटी) वैन को फिर से शुरू कर दिया गया है जिसके कारण, झाडू की बिक्री फिर से शुरू हो गई है।

वीरबाबू ने टीओआई को बताया कि “मंगलवार को, मैंने हैदराबाद में खुदरा व्यापारियों को 6,000 किलोग्राम नारियल झाड़ू पहुँचाया, जहाँ से झाड़ू को मुंबई जैसे अन्य स्थानों पर बेचा जाएगा। मैं प्रत्येक झाड़ू के लिए 9 रुपये लेता हूं।

श्रीकाकुलम के एक अन्य सप्लायर, पी श्रीरामुलु ने कहा कि उन्होंने शहर में पेंदुर्थी को 4,000 किलोग्राम झाड़ू की आपूर्ति की। “हम झाड़ू की आपूर्ति करने के लिए तैयार थे, लेकिन उन्हें बनाने के लिए श्रमिकों की कमी थी। श्रीरामुलु ने कहा कि तालाबंदी के कारण मजदूर अपने घरों में ही है।

जीवीएमसी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ केएसएलजी शास्त्री ने कहा कि वायरस के प्रकोप के बाद मांग बढ़ी है और नागरिक निकायों द्वारा सार्वजनिक स्थानों की लगातार सफाई हो रही है। “निजी ठेकेदार विजाग शहर के लिए झाड़ू की आपूर्ति का ध्यान रखेंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: