Happy Book Day

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित.

किताब ही दोस्त बनकर,
हमे सही राह दिखाती है।
हमारी खामियों का एहसास,
बिना बोले, वो हमे कराती है।

किताबो के उन तमाम पन्नो ने ही तो,
हमे बहुत कुछ सिखाया है।
मुसीबतों में भी मुस्कुराकर लड़ना,
हमे इन्हे पढ़ कर ही तो आया है।

किताबों में लिखा वो एक शब्द ही,
सबकी दृष्टिकोण से अलग अलग दिखता है।
सत्य मार्ग का वो एक ही शाश्वत सत्य,
अलग अलग किताबों में बिखर कर बिकता है।

सही से समझने वाला इसे,
अपनी किताबों का खज़ाना कहता है.
अपनी ज़िन्दगी को संग इसके बांट,
वो अपने इस दोस्त से ही,
उसके दुख दर्द बांटने को कहता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: