डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने पिछले बयान को बदलते हुये आज हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन पर मोदी सरकार का समर्थन किया।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने पिछले बयान को बदलते हुये आज हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन पर नरेंद्र मोदी सरकार का समर्थन किया और जिस तरह भारत एक जुट होकर कोविद -19 महामारी के खिलाफ लड़ रहा है उसकी प्रशंसा की।

फॉक्स न्यूज को दिए एक साक्षात्कार में, ट्रम्प ने कहा कि “मैंने कोरोना वायरस से पीड़ित अमेरिकी लोगो के इलाज़ के लिए लाखों खुराक खरीदीं, जो 29 मिलियन से अधिक है। इस बारे में मैंने प्रधानमंत्री मोदी से भी बात की थी क्योंकि इस दवाई का बहुत सारा हिस्सा भारत से मिलना था। मैंने उनसे पूछा कि क्या वह इसे हमे देदेंगे?प्रधानमंत्री मोदी के हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाई देने की सहमति के बाद, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उनकी प्रशंसा करते हुये कहा की वह वास्तव में बहुत ही अच्छे है। पहले शायद उन्होंने दवाई देने के लिए इसलिए मना किया होगा क्योंकि वह इस दवाई को भारत के लिए रखना चाहते थे। दुनिया के बहुत लोगो की निगाह इस मामले पर थी और मैं बुरी खबर नहीं सुनना चाहता हूँ और मुझे केवल अच्छी खबर ही सुननी है और मैं ऐसी कोई भी खबर नहीं सुनना चाहता जिसके कारण मौत की खबर सुननी पड़े। ऐसा नहीं है कि हम दवाइयों की खोज नहीं कर रहे है। जॉनसन एंड जॉनसन, को यह परीक्षण करने की आवश्यकता है क्योंकि ऐसा लगता है कि मलेरिया से प्रभावित काउंटी अप्रभावित हैं जहां मलेरिया आम है। “

जबकि राष्ट्रपति ट्रम्प ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर सोमवार को भारत के खिलाफ संभावित जवाबी कार्रवाई के बारे में बात की थी, तथ्य यह है कि भारत ने राज्य सरकार को दवा नीति में बदलाव के बारे में पहले ही सूचित कर दिया था।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहाकि जब दुनिया इस महामारी का सामना कर रही है,”हम चीन के साथ समझौता नहीं करना चाहते हैं। हमारे पास बांग्लादेश, श्रीलंका जैसे और देशों की भी जो भारतीय दवाओं पर निर्भर है उन सभी लोगों के लिए हमारी प्रतिबद्धता और जिम्मेदारी है।
 
राष्ट्रपति ट्रम्प ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर भारतीय रुख की प्रशंसा की और डब्ल्यूएचओ(WHO) और चीन दोनों पर ,महामारी के बारे में दुनिया को अंधेरे में रखने का आरोप लगाया।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पिछले महीने जी -20 में अपने भाषण में डब्ल्यूएचओ के पुनर्निर्माण के लिए कहा था क्योंकि उन्होंने महसूस किया कि 20 वीं शताब्दी के संगठन को गंभीर ओवरहालिंग की आवश्यकता है।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन और अन्य दवाओं के निर्यात की अनुमति देने के भारत के फैसले को ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने भी सराहा है। पीएम मोदी को लिखे एक पत्र में, राष्ट्रपति बोल्सोनारो ने अपने देश में भारत की दवा आपूर्ति की तुलना संजीवनी बूटी के रूप में की जो हनुमान जयंती के दिन भगवान राम के भाई लक्ष्मण की जान बचाने के लिए भगवान हनुमान द्वारा लाई गई थी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s