कोरोनवायरस के खिलाफ लड़ाई: पुणे फर्म ने वायरस-किलर ’एयर प्यूरिफाइंग तकनीक विकसित की है.

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, मीता कपूर की जानकारी पर आधारित।

चूंकि भारत में कोरोनोवायरस के मामलों की संख्या बढ़ रही है, इसलिए पुणे स्थित विज्ञान और प्रौद्योगिकी पार्क (एसटीपी) द्वारा संक्रमित क्षेत्रों में वायरस के प्रभाव को कम करने वाली एक वायु-शोधन तकनीक विकसित की गई है।

STP के महानिदेशक डॉ राजेंद्र जगदाले के अनुसार, Scitech Airon नामक मशीन हर सेकंड में 10 करोड़ नकारात्मक आयन उत्पन्न करती है जो हवा में मौजूद पानी के साथ प्रतिक्रिया करती हैं और फिर दो अणु बनाती हैं, हाइड्रॉक्सिल आयरन (OH-) और हाइड्रोजन ऑक्साइड (H2O2) । उन्होंने कहा कि ये दोनों तुरंत हवा में मौजूद अन्य अणुओं के साथ प्रतिक्रिया करना शुरू कर देते हैं। OH- अणु तब साबुन की तरह कोरोनावायरस की लिपिड दीवार को तोड़ते हैं और हवा में वायरस लोड को कम करता हैं।

श्री जगदाले ने दावा किया कि मशीन से उत्पन्न नकारात्मक आयन न केवल हवा में वायरस के अणु को बेअसर करते हैं, बल्कि संक्रमित लोगों के छींकने या खांसने से विभिन्न सतहों पर गिरे कणों को भी नष्ट करते हैं।

मशीन के तंत्र पर, डॉ जगदाले कहते हैं कि इसका हल्का प्रभाव वातावरण को शुद्ध करता है जिसके बाद हवा में ताजगी महसूस की जा सकती है। डॉ जगदाले ने बताया कि हर समय सभी सतहों को स्प्रे या फ्यूमिगेट करना व्यावहारिक रूप से असंभव है।

सभी पर विषाक्त यौगिकों को स्प्रे करना असंभव है। लोग कास्टिक सोडा का भी छिड़काव करते हैं क्योंकि इसमें हाइड्रॉक्सिल आयन होते हैं जो वायरस की फैट वाल को भी तोड़ते हैं, लेकिन छिड़काव से लोगो के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। दूसरी तरफ, यह नकारात्मक आयन हमारे वातावरण की रक्षा करने वाली मशीन है, जो वायु के सभी प्रदूषकों को नष्ट करती है और हमारे स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव डालती है।

इंडिया टुडे से बात करते हुए, डॉ जगदाले ने कहा कि यह परियोजना भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित है और निधि प्रयास कार्यक्रम के तहत विकसित की गई है। महानिदेशक ने यह भी कहा कि केंद्र ने स्किटेक एरोंन(Scitech Airon) के उत्पादन को बढ़ाने के लिया 1 करोड़ रूपया का फंड जारी कर दिया है।

एक छोटे आकार की मशीन की कीमत 40,000 रुपये है और बड़ी मशीन की कीमत लगभग 60 लाख रुपये है।उन्होंने कहा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मशीन पर एक रिपोर्ट भी मांगी है कि यह देखने के लिए कि देश में फैले COVID-19 से निपटने में कैसे मदद मिल सकती है, क्या यह परीक्षण किया गया है जो यह प्रमाणित करता है कि मशीन वास्तव में कोरोनवायरस को मारती है.

डॉ जगदाले का कहना है कि मशीन को प्रमाणीकरण के लिए एनआईवी को भेजा जा रहा है। डॉ जगदाले ने प्रकाशित पत्रों को साझा किया हैं जो यह साबित करते हैं कि यदि 25,000 नकारात्मक आयन उत्पन्न होते हैं, तो वे हवा में मौजूद सभी प्रकार के वायरस को मार सकते हैं। यह मशीन प्रति सेकंड 10 करोड़ नकारात्मक आयन उत्पन्न करती है। वे कहते हैं कि यह मशीन एक ही समय में वायुमंडल की रक्षा करती है क्योंकि यह ओजोन उत्पन्न नहीं करता है, जो विषाक्त है।

SciTech Park, ने एक स्टार्ट-अप कंपनी की स्थापना की, जिसका सरकार का निवेश 25% है, वह कम से कम पाँच अन्य मशीनों का भी निर्माण कर रही है, जो वायु को शुद्ध करने और प्रदूषकों को कम करने के लिए प्रति सेकंड 60 ट्रिलियन नकारात्मक आयन उत्पन्न करती हैं। निर्देशक ने बताया कि ऐसी एक मशीन दिल्ली के पास फिट की गई है। पुणे के एक अस्पताल में चार छोटी मशीनें लगाई गई हैं।

डॉ जगदाले ने कहा कि विदेशों के विभिन्न अस्पताल और वैज्ञानिक पहले से ही उनसे मशीन के लिए जानकारी कर रहे हैं। अमेरिका की एक पार्टी ने कहा कि वे हर हफ्ते एक चार्टर्ड उड़ान भेजने के लिए तैयार हैं लेकिन जल्द से जल्द ये मशीनें चाहते हैं। उन्होंने कहा कि कुवैत, ओमान, दुबई के लोगों ने 5,000 मशीनों के लिए ऑर्डर दिया है।

SciTech Park के महानिदेशक ने कहा किइस प्रौद्योगिकी का पेटेंट कराया गया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s