केरल का बुजुर्ग दंपत्ति, 93 और 88 वर्ष का, COVID-19 से उबरा.

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शहीद की जानकारी पर आधारित।

थॉमस (93) और मरियम्मा (88) केरल में कोरोनोवायरस संक्रमित रोगियों के उच्च जोखिम वाले वर्ग के थे, जिनके बचने की संभावनाएं बहुत कम थीं। उम्र से संबंधित बीमारियों के अलावा, उन्हें मधुमेह और उच्च रक्तचाप भी था जो कि संक्रमित रोगियों की हालत और ख़राब कर सकता हैं। कई दिनों तक, उसकी हालत बिगड़ने पर थॉमस जो 93 वर्ष के है उन्हें वेंटिलेटर पर रखा जाना था।

लेकिन सोमवार को, केरल ने राहत की सांस ली, जब पठानमथिट्टा के रहने वाले इस जोड़े ने गहन देखभाल इकाई में तेजी से फैलने वाले वायरस के खिलाफ एक साहसी लड़ाई लड़ी और दुबारा टेस्ट करने पर इनका परिणाम नकारात्मक आया। एक विज्ञप्ति में, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कोट्टायम मेडिकल कॉलेज के पूरे स्टाफ को दंपति को सर्वश्रेष्ठ उपचार प्रदान करने और बीमारी से इतनी जल्दी ठीक करने के लिए बधाई दी। सात डॉक्टर और 25 नर्सिंग स्टाफ सदस्य उस मेडिकल टीम का हिस्सा थे, जिसने दंपति का इलाज किया था।

दंपति को शुरू में 6 मार्च को पठानमथिट्टा के सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था, क्योंकि कुछ दिनों पहले उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों मुलाकात की थी जो फरवरी के अंतिम सप्ताह में इटली से लौटे थे। लेकिन उन्हें 9 मार्च को कोट्टायम मेडिकल कॉलेज में ले जाया गया, जहां स्वास्थ्य मंत्री के हस्तक्षेप पर उन्नत सुविधाएं उपलब्ध कराई गई थीं।

पहले कुछ दिन कठिन थे। थॉमस ने सीने में दर्द का अनुभव करना शुरू कर दिया, जिसके कारण प्रमुख डॉक्टरों ने हृदय संबंधी जटिलताओं पर ध्यान रखा। शुरुआत में दोनों का अलग-अलग कमरों में इलाज चल रहा था। लेकिन यह महसूस करते हुए कि वे एक दूसरे की उपस्थिति के बिना असहज थे, चिकित्सा कर्मचारियों ने उन्हें प्रत्यारोपण आईसीयू में स्थानांतरित कर दिया जहां वे एक-दूसरे को देख सकते थे।

लेकिन थॉमस की हालत लगातार बिगड़ती गई। कफ के संचय और तीव्र खांसी के कारण ऑक्सीजन का स्तर कम होता जा रहा था और उन्हें तुरंत वेंटिलेटर समर्थन में स्थानांतरित करना पड़ा । बीच-बीच में उन्हें दिल का दौरा भी पड़ा। डॉक्टरों ने उन दोनों में मूत्र संक्रमण का भी निरीक्षण किया और उन्हें ठीक करने के लिए उपचार दिया।

पिछले हफ्ते, थॉमस को वेंटिलेटर से हटा दिया गया था क्योंकि उनकी स्थिति बेहतर थी। उनकी खांसी भी गायब हो गई थी। जब उन दोनों को पीसीआर परीक्षणों के लिए भेजा गया ,तो उसका परिणाम भी नकारात्मक आया जिसके कारण ,मेडिकल टीम को बहुत राहत मिली। उनकी स्थिति अभी स्थिर बनी हुई है और मेडिकल बोर्ड जल्द ही उनकी छुट्टी की तारीख तय करेगा।

स्वास्थ्य विभाग की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि दंपति कई बार घर लौटने के लिए जिद कर रहे थे, निर्धारित समय अनुसार भोजन भी नहीं करते थे और अक्सर नर्सिंग स्टाफ के साथ सहयोग नही करते थे। वास्तव में, एक नर्स, जिन्होंने उनके उपचार के दौरान उस जोड़े के साथ निकट संपर्क बनाए रखा था, वह अब कोरोनोवायरस से पीड़ित हो गई है। स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने उनसे बात की और अस्पताल में चिकित्सा कर्मचारियों की पूरी मदद करने का आश्वासन दिया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: