ऑक्सीजन सपोर्ट पर दसवीं कक्षा की लड़की ने अपनी बोर्ड की परीक्षा लिखी।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित

बरेली: सोलह वर्षीय सफिया जावेद, जो पिछले पांच सालों से फेफड़ों की बीमारी से जूझ रही हैं और इस साल दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा दे रही हैं, को परीक्षा हॉल में ऑक्सीजन सिलेंडर ले जाने की अनुमति दी गई है। चूंकि वह नियमित रूप से कक्षाओं में भाग लेने में असमर्थ थी, इसलिए सफिया एक प्राइवेट छात्र के रूप में यूपी बोर्ड परीक्षा में उपस्थित हो रही थी। वह पिछले डेढ़ साल से लगातार ऑक्सीजन सपोर्ट पर है क्योंकि उसके फेफड़े सामान्य रूप से सांस लेने के लिए कमजोर हैं।

बरेली के शाहबाद कॉलोनी में रहने वाले सफिया के पिता सरवर जावेद ने टीओआई(TOI) को बताया, “मेरी बेटी हमेशा क्लास की टॉपर रही थी, लेकिन पिछले पांच सालों में उसकी मेडिकल स्थिति बिगड़ गई। वह एक नियमित छात्रा थी लेकिन हाई स्कूल की परीक्षा छोड़नी पड़ी क्योंकि उसकी स्वास्थ्य की स्थिति गंभीर हो गई थी और उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। मुझे यकीन है कि वह उत्कृष्ट अंक प्राप्त करेगी क्योंकि वह एक होनहार विद्यार्थी है और कड़ी मेहनत करती है। ”

सफिया के पिता ने बताया कि पित्ताशय से पथरी निकालने के लिए सर्जरी करवाने के लगभग पांच साल पहले सफिया की सभी चिकित्सकीय समस्याएं शुरू हुईं। एक साल बाद, उन्हें टूबरकुलोसिस का पता चला और उन्होंने एक निजी अस्पताल में इलाज कराया और सुधार के संकेत दिखे लेकिन बाद में हमें पता चला कि वह पल्मनरी टूबरकुलोसिस से पीड़ित थीं। उसके फेफड़े अक्सर द्रव से भर जाते हैं और उसे निवारक उपचार से गुजरना पड़ता है इसलिए जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे लगातार ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा है। उसे कई महीनों तक बिस्तर पर रखा गया था और जब उसमे सुधार के लक्षण दिखाई दिए तो उसने फिर से अध्ययन करना शुरू कर दिया। उसके डॉक्टरों, स्कूल के प्रिंसिपल और स्कूल के शिक्षकों ने यह सुनिश्चित करने में हमारा साथ दिया कि मेरी बेटी बोर्ड की परीक्षा लिख सकती है। ”

हालाँकि सफिया ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए ठान ली है, लेकिन उसने अपनी आकांक्षाओं के बारे में टीओआई (TOI) को नहीं बताया और केवल इतना कहा, “वक़्त को फैसला करने दो।” उसके पिता ने कहा, “तीन भाई-बहनों में सफिया मेरी इकलौती बेटी और सबसे बड़ी है। मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि वह जीवन में बहुत सफल हो और मैं उसे बचाने के लिए अपने सारे पैसे खर्च करने को तैयार हूं।”

हमे गर्व है सफिया और उसके पिता के हौसले पर आप भी अपने भाव हमारे साथ ज़रूर शेयर करे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: