8 मार्च को, पुणे के आदित्य तिवारी को ‘विश्व के सर्वश्रेष्ठ मम्मी’ के रूप में सम्मानित किया जायेगा।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित  

पुणे में रहने वाले आदित्य तिवारी, जिन्होंने 2016 में डाउन सिंड्रोम से ग्रस्त एक बच्चे को गोद लिया था, उन्हें 8 मार्च 2020 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बेंगलुरु के एक कार्यक्रम वेम्पावर में देश भर की महिलाओं के साथ ‘विश्व के सर्वश्रेष्ठ मम्मी’ के रूप में सम्मानित किया जाएगा। वह इस कार्यक्रम में एक पैनल चर्चा में भी भाग लेंगे।

अपने बेटे को एक एकल माता-पिता के रूप में गोद लेने वाले तिवारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “मुझे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ मम्मियों में से एक के रूप में सम्मानित होने की खुशी है और मैं अपने बच्चे के लालन पालन के अपने अनुभव को साझा करने के लिए उत्सुक हूं।” ।

1 जनवरी 2016 को, तिवारी ने अवनीश को गोद लिया, तब वह 22 महीने का था। जब अवनीश अपने नये जीवन के शुरुवाती दौर में था, तब तिवारी के जीवन में एक नया मोड़ आया। उन्होंने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अपनी नौकरी छोड़ दी और देश भर में विशेष बच्चों के साथ माता-पिता को मार्गदर्शन और प्रेरणा के लिए सलाह देना शुरू किया।

”तिवारी ने कहा कि अब वह अकेले नहीं है, उनके साथ अब उनका छह साल का बेटा उसका साथ देता है वे जहां भी जाता है । “अवनीश उनका बेटा बिल्कुल उनके सामने होता हैं और उन माता-पिता को प्रेरित करता हैं जिनके पास विशेष आवश्यकता वाले बच्चे हैं। वह बोल नहीं सकता, लेकिन उसकी उपस्थिति और माता-पिता के लिए एक प्रमुख प्रेरक कारक होती है।

पिता-पुत्र की जोड़ी ने 22 राज्यों का दौरा किया है और लगभग 400 स्थानों पर बैठकें, कार्यशालाएं, सम्मेलन और वार्ताएं की हैं।तिवारी ने कहा कि “हम दुनिया भर में 10,000 माता-पिता से जुड़े हैं। हमें संयुक्त राष्ट्र द्वारा एक सम्मेलन में भाग लेने और बौद्धिक विकलांग बच्चों को मानसिक रूप से विकसित करने के तरीकों पर प्रकाश डालने के लिए भी आमंत्रित किया गया था, और हमे विश्व आर्थिक मंच द्वारा जिनेवा में एक सत्र के लिए भी आमंत्रित किया गया था।

तिवारी ने कहा कि उनके जीवन में अवनीश की मौजूदगी ने उन्हें यह महसूस करने में मदद की कि भारत में बौद्धिक रूप से अक्षम बच्चों के लिए न तो कोई अलग श्रेणी थी और न ही सरकार ने उनके लिए विकलांगता प्रमाण पत्र दिया था। “हमने केंद्र के साथ इस मुद्दे को उठाया और एक ऑनलाइन याचिका भेजी। परिणामस्वरूप, सरकार को ऐसे बच्चों के लिए एक अलग श्रेणी बनाने के लिए मजबूर होना पड़ा और अब उन्हें विकलांगता प्रमाणपत्र भी मिलते हैं।

तिवारी ने कहा कि उनका परिवार वाकड में रहता है और अवनीश बालवाड़ी के एक स्कूल में जाता है। अवनीश को नृत्य, संगीत, फोटोग्राफी और वादन के उपकरण पसंद हैं। “जंक फूड और दूध ना देकर, अवनीश के लिए अलग और उचित आहार है।”

 तिवारी को पहले पता चला था कि अवनीश के दिल में दो छेद हैं। तिवारी ने कहा, “लेकिन बिना किसी चिकित्सकीय हस्तक्षेप के, छिद्र गायब हो गए थे।” हालांकि, बच्चे को कुछ चिकित्सा समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और उसे दो सर्जरी से गुजरना भी पड़ेगा। “दोनों सर्जरी उनके जीवन के लिए महत्वपूर्ण हैं … उनका जल्द ही ऑपरेशन कराना होगा।

लेकिन वर्तमान में, गर्वित पिता-पुत्र की जोड़ी विशेष जरूरतों वाले बच्चों के लिए एक और परामर्श सत्र के लिए तैयार हो रही है।

तिवारी के अलावा, अन्य “गतिशील माताओं” जिन्हें इस समारोह में सम्मानित किया जाएगा उनमें जीजा घोष नाग, सुप्रिया जैन और डॉ अलोमा लोबो शामिल हैं। विभिन्न क्षेत्रों की उत्कृष्ट महिलाएं भी तीन अलग-अलग पैनल चर्चाओं में भाग लेंगी।

पुणे स्थित लेखक और विकलांगता अधिकार कार्यकर्ता स्वेता मंत्री द्वारा बीस मिनट का स्टैंड-अप कॉमेडी एक्ट होगा, जिसके द्वारा वह अपनी विकलांगता( स्पाइनल बिफिडा के साथ जन्मी) और इसके साथ आने वाले मुद्दों के बारे में बातचीत करने के लिए एक कदम उठायेंगी।आज के समय में वह समाज के लिए एक प्रेरणा बन चुकी है।

यह आयोजन मल्लेस्वरम के ब्रिगेड गेटवे के ओरियन मॉल में होगा।

उन्होंने बताया कि हम आयोजकों को सशक्त बनाते हुए कहते हैं, “हम गतिशील माताओं के प्रेरक जीवन पर ध्यान केंद्रित करेंगे जिन्होंने लैंगिक मानदंडों और रूढ़िवादिता को मातृत्व के साथ परिभाषित किया।”

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s