हैदराबाद: आलमगीर मस्जिद में अब छात्र अपने करियर की योजना बनाने के साथ, परीक्षा की तैयारी भी कर सकते हैं.

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित   

हैदराबाद: एसी गार्ड्स के शांतिनगर इलाके में एक मस्जिद सैकड़ों छात्रों के लिए अपने दरवाजे खोलेगी, और उन्हें मेडिकल पाठ्यक्रमों और सिविल सेवाओं के लिए राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में मदद करेगी।

विभिन्न क्षेत्रों से आये विशेषज्ञ छात्रों को राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर, परीक्षाओं की योजना बनाने, तैयारी  करने और प्रस्तुत करने के बारे में प्रशिक्षित करेंगे। अगले शैक्षणिक वर्ष से शुरू होने वाले विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा देने की योजना बना रहे छात्रों के लिए 2 मार्च से प्रतिदिन विशेषज्ञ कोचिंग सेंटर में कक्षाएं आयोजित की जाएंगी। लोक सेवा परीक्षा में बैठने वालों के लिए अलग कक्षाएं आयोजित की जाएंगी।

महावीर अस्पताल के पास आलमगीर मस्जिद की पहली मंजिल कोचिंग-सह-अध्ययन केंद्र के लिए रखी गई है। कोचिंग कार्यक्रम जिसे “मस्जिद से जुड़ाव” कहा जाता है, रातों के दौरान आयोजित किया जाएगा और छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए मस्जिद परिसर का उपयोग कर सकते हैं। विशेषज्ञों के अलावा, छात्रों का मार्गदर्शन करने के लिए प्रशिक्षित शिक्षक होंगे। हैदराबाद में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक मस्जिद को शैक्षणिक और कैरियर में वृद्धि के लिए कोचिंग सेंटर के रूप में अपनाया गया है।

आलमगीर मस्जिद कमेटी के अध्यक्ष सैयद अता हुसैन अंजुम ने टीओआई को बताया कि प्रतियोगी परीक्षा के लिए उन्होंने छात्रों को सभी क्षेत्रों में नवीनतम विकास के लिए एक शैक्षणिक-सह-नौकरी कोचिंग अभियान, “एक्सेल 2020 प्लस” लिया है, और उन्हें कठिन से कठिन परीक्षा के लिए सक्षम बनाया जायेगा।

उन्होंने कहा कि “कई छात्र अग्रणी कोचिंग केंद्रों पर कोचिंग लेने के लिए ट्यूशन शुल्क नहीं दे सकते,”. साथ ही, कई परिवारों में छात्रों के लिए घर में पर्याप्त जगह नहीं होती है जिससे कि वे शांत वातावरण में पढ़ाई कर सकें। हम गरीब छात्रों के प्रतिस्पर्धी कौशल को सुधारने के लिए शिक्षकों द्वारा प्रेरक कार्यक्रम और कोचिंग भी प्रदान करते है।

मस्जिद कमेटी के सचिव, बाशा मोहिउद्दीन ने कहा कि “हम छात्रों को प्रतिदिन कम से कम दो घंटे का विशेषज्ञ ध्यान देना सुनिश्चित करेंगे। कक्षा आठवीं से दसवीं, इंटरमीडिएट और डिग्री पाठ्यक्रमों के छात्रों के लिए कक्षाएं आयोजित की जाएंगी। चिकित्सा, कानून, इंजीनियरिंग में प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठने वालों के लिए अलग-अलग सत्र होंगे। “

सालार जंग संग्रहालय बोर्ड के सदस्य और शिक्षाविद, सैयद जाकिर हुसैन ने कहा कि मस्जिद कमेटी ने नमाज से परे एक मस्जिद का दायरा बढ़ाने का फैसला किया था। “ईशा की नमाज़ (लगभग 8 बजे) के बाद कक्षाएं शुरू होंगी। मस्जिद में छात्र फज्र की नमाज (लगभग 5 बजे) तक पढ़ सकते हैं। मोबाइल फोन की अनुमति नहीं दी जाएगी। जाकिर ने कहा कि छात्रों को मस्जिद में प्रवेश करने से पहले मोबाइल को एक विशेष काउंटर पर जमा करना होगा।

आशा है की मस्जिद कमिटी के इस प्रयास से आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग के छात्रों को अपना भविष्य बनाने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: