मिशन गरिमा स्वच्छता कार्यकर्ताओं के लिए रतन टाटा का नया अभियान।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, मीता कपूर  की जानकारी पर आधारित

टाटा ट्रस्ट द्वारा स्वच्छता कार्यकर्ताओं के लिए एक जागरूक करने वाला विज्ञापन इंस्टाग्राम पर साझा किया गया। 

विज्ञापन एक स्कूली छात्र के साथ शुरू होता है, जो एक प्रतियोगिता के दौरान अपने सहपाठियों और उनके माता-पिता को संबोधित करता है। वह कहता है “मेरे पिता देश चलाते हैं” ।

अपने दर्शकों के संदेह को देखते हुए, पांचवी कक्षा का छात्र समझाता है कि उसके पिता कोई राजनेता या डॉक्टर, सिपाही या सेना का आदमी नहीं है, बल्कि उसके पिता के काम के बिना देश में ठहराव आएगा। “अग्रवाल ने कहा कि मेरा बाबा अगर काम पर नहीं जायेगा तो भारत के घर घर में  काम रुक जायेगा।बच्चे ने बताया कि उसके पिता के पास एक नौकरी है जो कोई भी पिता नहीं करना चाहेगा।

विज्ञापन फिर एक स्वच्छता कार्यकर्ता को सीवर से नीचे उतरते हुए दिखाता है और स्कूली छात्र बताते हैं कि देश गीले और सूखे कचरे को अलग नहीं करता है, जो उसके पिता को कचरे और गटर के अंदर जाने के लिए मजबूर करता है, जिससे बीमारियों का खतरा होता है।

वह कहता है “कभी-कभी मुझे चिंता होती है कि मेरे पिता इन बीमारियों से हार जाएंगे,।

रतन टाटा द्वारा इंस्टाग्राम पर साझा किया गया यह दिल दहला देने वाला विज्ञापन, टाटा ट्रस्ट की पहल ‘मिशन गरिमा’ का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य “सीवेज और कचरे के साथ श्रमिकों के मैनुअल हस्तक्षेप को कम करना” है।

टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा ने आज सुबह इंस्टाग्राम पर 3 मिनट का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “मिशन गरिमा, हमारे बहादुर स्वच्छता कार्यकर्ताओं के लिए है।

विज्ञापन को साझा करते हुए, उन्होंने समझाया कि 23 मिलियन निवासियों के शहर, मुंबई में केवल 50,000 व्यक्ति स्वच्छता कार्यकर्ता के रूप में कार्यरत हैं – और वे हर दिन कठिन परिस्थितियों में काम करते हैं। “मिशन गरिमा स्वच्छता कार्यकर्ताओं के लिए सुरक्षित, स्वच्छ वातावरण में मानवीय काम करने की स्थिति प्रदान करने के लिए काम कर रही है, जो शहर के लिए अकल्पनीय हैं बिना स्वच्छता कार्यकर्ताओं की सहायता के।

अपने पोस्ट में, उन्होंने हैशटैग #TwoBinsLifeWins का उपयोग करके पाठकों से आग्रह किया कि वे स्वच्छता कार्यकर्ताओं पर बोझ को कम करने के लिए अपने बायोडिग्रेडेबल और गैर-बायोडिग्रेडेबल कचरे को अलग करें।

विज्ञापन को इंस्टाग्राम पर साझा किए जाने के, कुछ ही मिनटों के भीतर, एक लाख से अधिक बार देखा जा चुका है, यहाँ  इस पहल ने कई लोगों से प्रशंसा हासिल की है।

इस विज्ञापन ने “हर दिल को छूने वाला संदेश दिया है. इसकी सराहना करते हुए एक व्यक्ति ने टिप्पणी देते हुए उस विज्ञानपन पर लिखा हम सभी को अपनी जिम्मेदारियों के प्रति थोड़ा और जागरूक होने की जरूरत है.

किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा लिखा गया “ऐसी अद्भुत पहल”।

दिसंबर में, शिवसेना ने मुंबई में सेप्टिक टैंक में सफाई कर्मचारियों की मौत पर चिंता व्यक्त की थी,क्योंकि वहां सफाई कर्मचारियों की दम घुटने से मौत हो गई थी।

मिशन गरिमा स्वच्छता कार्यकर्ताओं के लिए एक बड़ा और सकारात्मक बदलाव लेकर आयेगा हम उम्मीद करते है इसके आने से बहुत से स्वच्छता कर्मचारी बीमारियों से दूर होंगे। इस अभियान पर अपनी राय हमें ज़रूर दें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: