गुजरात: उत्तरायण में, एक मुस्लिम ने अपने ब्राह्मण मित्र को श्रद्धांजलि के रूप में गौ माता की सेवा की।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, शाहिद की जानकारी पर आधारित

ऐसे समय में जब गौ रक्षा हम सभी की एक ज़िम्मेदारी बन चुकी हैं, सावरकुंडला में मुस्लिम मित्रों के एक समूह ने न केवल इंसानियत की एक मिसाल कायम की, बल्कि गायों को चारा खिलाने की परंपरा का पालन करते हुए एक हिंदू के साथ अपनी दोस्ती को भी अमर कर दिया। मकर संक्रांति के शुभ दिन,14 जनवरी को, बशीर झांखरा और उसके दोस्त शहर में घूमे और लगभग 650 किलोग्राम चारा गायों को एक ब्राह्मण दोस्त, निलेश मेहता को श्रद्धांजलि के रूप में खिलाया, जिनकी एक रात पहले कार्डियक अरेस्ट से मृत्यु हुई थी।

“बशीर ने कहा कि “नीलेश मेरे भाई जैसा था, क्योंकि वह एक ब्राह्मण था, उसके अंतिम संस्कार करने वाले पुजारियों ने मुझे बताया कि अगर मैं उसे श्रद्धांजलि देना चाहता हूँ , तो ‘गौ सेवा’ (गायों की सेवा) सबसे अच्छा तरीका होगा.

बशीर झांखरा के पास कुल छह बीघा ज़मीन में से तीन बीघा में चारा उगता है। अगर बशीर बाजार में 650 किलोग्राम घास बेचता, तो वह आसानी से 25,000 रुपये के आसपास कुछ भी कमा लेता। लेकिन उसे पैसों का लालच नहीं था। नीलेश के साथ उनकी ऐसी बॉन्डिंग थी कि झांखरा ने अपने खेत में मजदूरों से मदद लेने से भी मना कर दिया और पूरी घास खुद ही काट ली। इस गतिविधि में बशीर झांखरा के दोस्तों – जुनैद झनखरा, आरिफ शेख, इदरीश शेख, मोहम्मद हनीफ और इम्तियाज पठान ने उनकी मदद की।

झांखरा का खेत स्थानीय नगर पालिका कार्यालय के ठीक सामने स्थित है जहाँ नीलेश ने एक अस्थायी कर्मचारी के रूप में काम किया था और वहीं इन दोनों की गहरी मित्रता हुई।

बशीर झांखरा ने बताया “मुझे अपने खेत से 650 किलो घास काटने में मेरे पांच दोस्तों ने मदद की थी और इससे ज़्यादा अच्छा और क्या हो सकता था कि मकर संक्रांति के दिन गायों को चारा खिलाने का अवसर मिला।

अमरेली जिला ब्रम्ह समाज के उपाध्यक्ष पराग त्रिवेदी ने कहा, “हम झनखरा को इस कार्य के लिए सलाम करते हैं जिसमें उन्होंने एक दोस्त को श्रद्धांजलि दी और वास्तव में सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश की. ”

मेहबूब कादरी ने कहा, “हम गायों को खिलाने में बशीर के साथ हैं क्योंकि हमारा मानना है कि सभी धर्मों और उनकी संस्कृतियों का सम्मान किया जाना चाहिए।”

बशीर ने पशु वध का समर्थन नहीं किया और कहा कि यदि गाय को हिंदू संस्कृति में माता का दर्जा दिया गया है, तो अन्य समुदाय कम से कम इससे दूर रह सकते हैं, जिससे कोई नुकसान न हो।

कहाँ है झगड़ा, कहाँ है लड़ाई,
देखो कैसे कर रहा एक मुस्लिम अपने हिन्दू दोस्त की बड़ाई।

Leave a Reply

%d bloggers like this: