बाला देवी बनी भारत की पहली, पेशेवर फुटबॉल की महिला खिलाड़ी।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित, स्वरुप मंजरेकर की जानकारी पर आधारित

29 साल की बाला देवी, मणिपुर पुलिस स्पोर्ट्स क्लब से 18 महीने के लिए स्कॉटिश क्लब में शामिल होने वाली बतौर पेशेवर, पहली फुटबॉलर भारतीय महिला खिलाड़ी हैं।

उनके फॉरवर्ड में 58 कैप्स में 52 गोल हैं और डोमेस्टिक में 100 से अधिक अंक प्राप्त किये हैं।

उन्होंने कहा “दुनिया के सबसे बड़े क्लबों में से एक यूरोप के साथ खेलने का मौका मिला, जिसकी वे कभी कल्पना भी नहीं कर सकती थी.

“मुझे उम्मीद है कि रेंजर्स के लिए मेरा कदम भारत में घर वापस लौटने वाली सभी महिला फुटबॉलरों के लिए एक उदाहरण के रूप में कार्य करेगा, जो खेल को पेशेवर रूप से लेने का सपना देखती हैं।”

एमी मैकडॉनल्ड्स के प्रबंधक का कहना है कि भारत के शीर्ष स्कोरर बाला देवी का रेंजर्स के लिए शानदार कदम “हर जगह खिलाड़ियों के लिए प्रेरणादायी हो सकता है”।

मैकडॉनल्ड्स कहते हैं कि इस खिलाड़ी का आगमन “कई स्तरों पर एक रोमांचक संकेत” है, जबकि अकादमी के प्रमुख क्रेग मूलोलैंड ने इस कदम को “महिलाओं के खेल के लिए एक बड़ा कदम” बताया।

कौन कहता है नारी केवल घर के कामो के लिए ही बनी है,
ज़रा गौर से देखो उसकी क्षमताओं की ऊर्जा, हर क्षेत्र में सजी है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: