घूँघट मुक्त जयपुर अभियान।

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखितशाहिद क़ाज़ी की जानकारी पर आधारित

जयपुर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा राज्य में ’घूँघट’ की प्रथा को समाप्त करने के लिए एक अभियान शुरू किया। अभियान के तहत, पुरुषों और महिलाओं दोनों के बीच प्रतिगामी अभ्यास के बारे में जागरूकता पैदा की जाएगी जो समाज में महिला सशक्तीकरण और लैंगिक समानता के लिए एक बाधा के रूप में खड़ा है।

पंचायत चुनाव के दौरान मतदान के लिए आने पर जिले की महिलाओं को भी घूंघट नहीं करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।इसके अलावा, व्हाट्सएप और अन्य सोशल मीडिया साइटों के माध्यम से जागरूकता पैदा की जाएगी। स्कूलों में गार्गी और मीना मंच और गांव में महिला ग्राम सभाओ के माध्यम से भी जागरूकता पैदा की जाएगी।

राजेश दोगीवाल, उप निदेशक, महिला सशक्तीकरण ने कार्य योजना के विषय में कहते हुए कहा, “सरकारी स्कूलों में बाल सभाओं के दौरान छात्रों के अभिभावकों को जागरूक किया जाएगा। पंचायत चुनावों के दौरान ग्रामीण महिलाओं को घूँघट करने से रोकने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। प्रत्येक गुरुवार को, ग्राम पंचायत स्तर पर एक महिला सभा का आयोजन जागरूकता कार्यक्रम के एक भाग के रूप में किया जाएगा, जिसमें आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी जागरूक किया जाएगा ”।

उन्होंने कहा कि सभी निर्वाचित महिलाओं के लिए जयपुर में एक उन्मुखीकरण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा ताकि वे ग्राम सभाओं और बाल सभाओं के दौरान अन्य महिलाओं के बीच जागरूकता पैदा कर सकें।

जागरूकता कार्यक्रमों के दौरान, महिलाओं को लिंग समानता, उनकी सफलता, व्यावसायिक विकास, महिला अधिकारों, शिक्षा और स्वास्थ्य के प्रति अभ्यास के नकारात्मक प्रभाव के बारे में जागरूक किया जाएगा।

बिना घूँघट के अब नारी भी सिर उठा कर जीना सीखेगी,
बेबस होकर, खुदको खोकर ,अब वो पहले के जैसे नहीं चीखेगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: