भोपाल के लड़के द्वारा ड्रोन से निगरानी की तकनीक ने वैश्विक स्तर पर जीत हासिल की

प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा लिखित

भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड (BSCDCL) की एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, भोपाल स्थित स्टार्ट-अप विज़्ज़्बी( Vizzbee ) द्वारा ड्रोन सहित कम ऊंचाई वाले हवाई वाहनों पर नज़र रखने के लिए एक आयोजन, जिसमे 51 देशों से 142 प्रतिभागियों ने टूलूज़, फ्रांस में भाग लिया. आयोजन में भोपाल स्थित स्टार्ट-अप चौथे स्थान पर रही. उस स्टार्ट -अप के मालिक आरजीपीवी के छात्र विभु त्रिपाठी और उनके साथी आयुष जिंदल, ग्लोबल अर्थ ऑब्जर्वेशन 2019 में चौथे स्थान पर रहे । पिछले साल, न्यू टेक् ज़ीरोथ में एक सर्वोच्च एशियाई निवेशक ने शुरुआत में 6% हिस्सेदारी खरीदी थी और वह एशिया की 30 स्टार्ट-अप का हिस्सा थे, जिसमें हांगकांग स्थित एक्सेलेटर $ 1.2 लाख (लगभग 82 लाख रुपये) का निवेश करेगा।

 विज़्ज़्बी( Vizzbee )एक रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंपनी है जो ड्रोन आधारित समाधान विकसित करती है जो आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के ऊपर एक सुधार है । सुधार की दिशा कम ऊंचाई वाले हवाई वाहनों की सुरक्षा से संबंधित है। त्रिपाठी ने कहा कि एयरबस के अनुसार, वर्तमान हवाई क्षेत्र में मानव रहित और मानव द्वारा चलने वाले, दोनों ही तरह के हवाई वाहन शामिल होंगे और हवाई यातायात नियंत्रक पहले से ही अपनी अधिकतम क्षमता पर चल रहे हैं। उन्होंने ये भी कहा, “मानव रहित ट्रैफिक मैनेजमेंट और राउटिंग सिस्टम की जरूरत है, जो ऑपरेशंस को हैंडल कर सके, जो न सिर्फ वाहन की सुरक्षा पर ध्यान देता है, बल्कि जिस क्षेत्र में यह उड़ान भरता है, उसके ऊपर भी।

पिछले साल, भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोडे ने स्टार्ट-अप्स के लिए एक विशेष नकद पुरस्कार की घोषणा की थी जो राज्य की राजधानी में कार्यरत ड्रोनों की संख्या की पहचान करने के लिए जीपीएस-आधारित तकनीक को एकीकृत कर सके। 06/01/20 को भोपाल के लड़के द्वारा ड्रोन निगरानी तकनीक ने वैश्विक स्तर पर जीत हासिल की –

वर्तमान में, त्रिपाठी और जिंदल के विचार का उपयोग अस्पतालों के लिए चिकित्सा वितरण, खोज और बचाव जैसे कई उपयोग मामलों के लिए किया जा रहा है। इस परियोजना की विशिष्टता ने एयरबस मुख्यालय के आमंत्रण को बढ़ावा भी दिया है। सूत्रों ने बताया कि यह परियोजना बी-नेस्ट के लिए ज़्यादा अच्छी नहीं क्योंकि केंद्र सरकार से फंडिंग मिलनी मुश्किल है।

सह-संस्थापक और आईआईटी-दिल्ली ग्रेजुएट (2019) आयुष जिंदल दो साल से स्वयं से चलने वाले रोबोट पर काम कर रहे हैं। वह मोशन प्लानिंग और रोबोट नेविगेशन एल्गोरिदम के विशेषज्ञ हैं। त्रिपाठी, RGPV भोपाल से ग्रेजुएट, एक ड्रोन उत्साही है। उन्होंने विभिन्न ड्रोन अनुप्रयोगों की खोज और बचाव आपातकालीन प्रतिक्रिया, केंद्रीकृत ड्रोन से विकसित की है.

ड्रोन की उड़ान का लेकर सहारा ,हमारे भोपाल के वीरो ने,
अपने देश की इस दुनियां में, एक अलग पहचान बनाई है।
एडवांस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग कर,
अस्पताल, खोज और बचाव  के कार्यों को भी एक नई दिशा दिखाई है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: