फिल्म समीक्षा – गुड न्यूज़।

रितेश कपूर द्वारा लिखित और प्रेरणा महरोत्रा गुप्ता द्वारा अनुवादित

साल के अंत को सुहाना करती हुई, भावनाओं के सही मिश्रण  के साथ, एक अच्छा मनोरंजन,  इस फिल्म को प्रस्तुत करता है।

डेब्यू निर्देशक राज मेहता कॉमेडी और इमोशन के उदार मिश्रण के साथ आईवीएफ (इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन) के लिए चयन करने वाले दो जोड़ों के गंभीर विषय से संबंधित हैं।एक शहरी कॉमेडी “गर्भ धारण” की समस्या को दर्शाती हुई।

कहानी का आधार सरल है जिस तरह से ट्रेलर में दिखाया गया है। अक्की(अक्षय कुमार) मुंबई शहर का रहने वाला वरुण बत्रा है, जिसके पास सब है बस जीवन में एक बच्चे की कमी है फिर भी उसकी पत्नी दीप्ति उर्फ ​​दीपू (करीना कपूर खान) और परिवार, उसे पितृत्व की खुशियाँ चखने की उम्मीद रखते हैं। जब कुछ भी काम नहीं करता है, तो आईवीएफ (इन-विट्रो निषेचन) के ज़रिये वो अपनी ख्वाहिश पूरी करने के लिए प्रजनन क्लिनिक पर जाते है। दूसरी तरफ  चंडीगढ़ का एक जोड़ा – हनी और मोनिका (दिलजीत दोसांझ और किआरा आडवाणी) – एक ही उपनाम के साथ, उसी  प्रजनन क्लिनिक तक पहुँच जाते है क्योंकि उनके जीवन की भी वही समस्या होती है। कहानी उस वक़्त नया मोड़ लेती है जब दोनों जोड़े के शुक्राणु आपस में एक ही उपनाम होने के कारण से बदल जाते है।

ऐसे गंभीर विषय को फिल्म में बड़ी सरलता के साथ कॉमेडी के ज़रिये दिखाया है । मेहता जी अपने अभिनेताओं को प्रदर्शन करने के लिए पर्याप्त अवसर देते हैं जिससे अभिनेता खुल कर अपने गुणों का प्रदर्शन कर सके। मेहता जी , ज्योति कपूर और ऋषभ शर्मा ने कुछ चतुर और मजाकिया लेख इस फिल्म में लिखे।

गुड न्यूज़  फिर से हमें याद दिलाती है कि अक्षय कॉमेडी के साथ कितने अच्छे हो सकते हैं,उनके सर्वश्रेष्ठ हास्य प्रदर्शनों में से एक कह सकते हैं. वास्तव में, यह कॉमेडी वाला रोल उनका  हाउसफुल ४ से भी ज़्यादा जनता को पसंद आ रहा है. उनकी हर फिल्म का प्रदर्शन लोगो के दिलो को छूता है क्योंकि वह अपना काम बड़ी लगन और मेहनत के साथ करते है। करीना ने भी फिर ये साबित किया कि वह अपने काम में सर्वश्रेष्ठ क्यों हैं। एक अच्छी तरह से तैयार चरित्र के साथ, करीना भावनात्मक भागों में विशेष रूप से प्रभावशाली है।

दूसरी तरफ अगर हम  दिलजीत के परदे पर प्रदर्शन की बात करे तो उन्होंने भी कभी अपने काम से जनता तो नाराज़ नहीं किया क्योंकि जो वास्तविक जीवन में इतनी कम बात करता है, उसके लिए यह बहुत कठिन है कि वो फिल्म में इतना बोलने वाला किरदार बखूबी निभाएं। किआरा ने भी अपने पंजाबी किरदार की बारीकियों को बखूबी निभाया है.

कुल मिला कर  फिल्म को एक सही मनोरंजन  का मिश्रण कह सकते है और जैसे कि मेरी शुरुआती पख्तियों  में मैंने कहा, साल का अंत बहुत ही बढ़िया तरीके से मनोरंजन से भरी फिल्म गुड न्यूज़ के साथ हुआ.आप भी जाए और ज़रूर  देखे।

जीवन से जुड़ा गंभीर विषय भी आसान नज़र आता है।
बॉलीवुड का सितारा, जब अपना प्रदर्शन दिल से दिखाता है।
बच्चो का मनोरंजन और बड़ो के मन को ये लुभाता है।
क्योंकि मेरी तुम्हारी हम सबकी ज़िन्दगियों से जुड़ी,
समस्याओं का हल यहाँ आसानी से मिल जाता है।

प्रेरणा मेहरोत्रा गुप्ता

One thought on “फिल्म समीक्षा – गुड न्यूज़।

Leave a Reply

%d bloggers like this: